ek puraana khat


ek puraana khat mila aaj mujhe
tumne di hui kitaab mein chipa hua
kagaz peela ho gaya tha 
sihaayi feeki ho gayi thi.
par aaj bhi uss khat mein
tumhara chehra saaf nazar aa raha tha 
har ek lafz tumne likha hua
aankhon se hokar dil mein utar raha tha 
theek waise hi -
jaise kayee saalon pehle hua tha.
aaj bhi main waise hi muskurayi
jaise tab muskurayi thi.

kuch saalon baad
sihayi aur feeki ho jaayegi
shayad likhe shabd mit jaayenge
lekin jazbaat waise hi rahenge
tumhari meri prem kahani ki gawahi dete…



एक पुराना खत मिला आज मुझे 
तुमने दी हुई किताब में छिपा हुआ 
कागज़ पीला हो गया था 
सिहाई फीकी हो गयी थी. 
पर आज भी उस खत में 
तुम्हारा चेहरा साफ़ नज़र आ रहा था  
हर एक लफ्ज़ तुमने लिखा हुआ 
आँखों से होकर दिल में उतर रहा था  
ठीक वैसे ही - 
जैसे कई सालों पहले हुआ था.
आज भी मैं वैसे ही मुस्कुरायी 
जैसे तब मुस्कुरायी थी.

कुछ सालों बाद 
सिहाई और फीकी हो जायेगी 
शायद लिखे शब्द मिट जाएंगे 
लेकिन जज़्बात वैसे ही रहेंगे 
तुम्हारी मेरी प्रेम कहानी की गवाही देते…  





Return to Main Page




Depression is REAL

click on image to read and 'load more' to see more poems