यादें


बादल जो बरसे रात भर
दिल की सेज भी भीग गयी...
यूँ तो रोका था बहुत
पर तेरी याद आँखों से चालक ही गयी

देखा सुबह तो रास्ते भीगे थे सारे ...
आँखें भी नाम थी ...
मुझे सताने आ गयी बेवफाई तेरी
तेरी यादें क्या कम थी?