अन्छाल्के आंसू



एक आंसू पलख पर सजा हुआ
ना छिपता ना छलकता ...
तेरी याद में खामोश खडा है
पलख के कगहरे पर सोच में डूबा हुआ