आज



आज ही समेट लो खुशियों को दामन में
कल मौका मिले न शायद
आज ही जगाओ उम्मीद किसीके मन में
कल तुम नाउम्मीद हो जाओ शायद
आज ही ख्वाब सारे सजा लो आँखों में
कल आँखें न खुले शायद
जितना जी सको जी लो एक पल में
कल सांस थम जाए शायद

3 ways

Three ways to stay tuned to the updates on Straight from the Heart
  1. Like and follow the Facebook Page
  2. Download and Install SFTH+ App: Android | iOS (free and NO ads)
  3. Subscribe to whatsapp broadcasts (send me a whatsapp message and I will reply with instructions)