इक चुभन-सी है ...

इक चुभन-सी है इस दिल में;
लबों तब आती नहीं,
आँखों तक आकर रुक जाती है, छलकती नहीं -
पहुँचती है कभी कभी थोड़ी-सी खलक तक;
घुटन-सी महसूस कराती है,
फिर लेकर दिमाग का रास्ता -
सिर दर्द दे जाती है.

इक चुभन-सी है इस दिल में;
लबों तक आती नहीं,
दिल से निकलती नहीं ..
इक चुभन-सी है इस दिल में ..
दिल का हिस्सा बन बैठी है -
दिल के हिस्से कर रही है.
इक चुभन-सी है इस दिल में.

Email Feedback

“We all need people who will give us feedback. That’s how we improve.” – Bill Gates